सोशल

नफरत से भरे लोगों ने ली एक और मुस्लिम युवक की जान

28 जून को दिल्ली के जंतर-मंतर पर हजारों लोग इकट्ठा हुए। कारण था कुछ नफरत से भरे लोगों का लगातार किसी खास नाम के 16 साल के बच्चे का सरेआम कत्ल करना। 16 साल का जुनैद जो ईद के लिए खरीददारी करने हरियाणा से दिल्ली गया था। ट्रेन में लोगों चाकूओं से हमला कर दिया क्योंकि उसके स्र पर टोपी थी। लगातार ऐसी घटनाएं अलग-अलग राज्यों में हो रही हैं। जंतर-मंतर पर हजारों लोगों ने एक साथ आकर इन हत्याओं का विरोध किया। इस प्रदर्शन में कलाकार, पत्रकार, समाजिक कार्यकर्ता और छात्र शामिल हुए।

लेकिन प्रदर्शन करने के बाद उसका परिणाम क्या निकला? बताया जा रहा है कि झारखंड में एक बार फिर मुस्लिम यूवक की हत्या कर दी गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना झारखंड के रामगढ़ जिले के सदर थाना क्षेत्र के टांड़ बाजार की है। लोगों का आरोप था कि वह आदमी मारुति वैन में प्रतिबंधित मांस लेकर जा रहा था। भीड़ ने सड़क पर ही बिना कुछ जाने, बिना कुछ सुने अपनी कार्रवाई शुरू कर दी। और उस युवक की पीट-पीटकर बड़ी ही बेरहमी से हत्या कर दी। इसके बाद भी लोगों की नफरत को तसल्ली नहीं मिली तो उन्होंने वैन में लगा दी।

बताया जा रहा है कि घटना गुरुवार सुबह नौ बजे की है। युवक लगभग 42 साल का था, उसका नाम अलीमुद्दीन उर्फ असगर अली बताया जा रहा है, जो मनुआ का रहने वाला था। एक तरफ तो खून के प्यासे लोग असगर अली की हत्या कर रहे थे तो वहीं दूसरी तरफ मोदी जी गुजरात में लोगों से गाय के नाम पर हिंसा ना करने की अपील कर रहे थे।

लहूलुहान असगर अली को जब पुलिस अस्पताल ले गई तो इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने अबतक इसकी औपचारिक पुष्टि नहीं की है। मामले की गंभीरता को देखते हुए हजारीबाग क्षेत्र के डीआईजी भीमसेन टूटी, डीसी राजेश्वरी बी, एसपी किशोर कौशल रामगढ़ थाने में कैंप कर रहे हैं।

सवाल है कि कबतक लोगों ऐसे मारा जाता रहेगा और देश इस तरह की घटनाओं के लगातार बढ़ते जाने से किस तरफ बढ़ रहा है?

(टीम मध्यमार्ग)



Leave a Reply

Your email address will not be published.