ख़बरें

कंट्रोलर ऑफ़ एग्जामिनेशन के खिलाफ जामिया मिलिया के छात्रों का प्रदर्शन

नई दिल्ली। जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के छात्रों ने मंगलवार 1 अगस्त को कंट्रोलर ऑफ़ एग्जामिनेशन के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया।

जिसमें छात्रो ने सेमस्टर एग्जाम रिजल्ट में हो रही देरी और गड़बड़ियों को जल्द से जल्द समाप्त करने की मांग की। छात्रों का कहना है कि रिजल्ट देरी से आने के वजह से छात्रों के कैरियर पे बुरा असर पड़ रहा है और उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

 

 

कई ऐसे छात्र भी हैं जिनका रिजल्ट आने के बावजूद भी मार्कशीट की प्रिंटिंग में कई गड़बड़ियाँ हैं। इसके अलावा जो छात्र-छात्राएं दूसरे यूनिवर्सिटी में एंट्रेंस पास चुके हैं उन्हें भी मार्कशीट न मिलने से एडमिशन कैंसिल होने का खतरा है।

मार्कशीट न मिलने के कारण वो कहीं पर इंटर्नशिप या नौकरी के लिए आवेदन कर पा रहे हैं। इस प्रोटेस्ट का प्रतिनिधित्व जामिया के स्टूडेंट एक्टिविस्ट अतीब खान और अक़दस समी ने किया। उन्होंने बताया कि छात्रों का एक डेलीगेशन जिसमें साहिल अहमद, जुबेर चौधरी, खुशबू खान, सदफ और लारैब खान ने वाईस ने चांसलर से मिलकर अपनी परेशानियों को उनके सामने रखा है।

 

 

वहीँ खुशबू खान ने कहा कि वाईस चांसलर ने हमारी मुद्दों को अपने संज्ञान में लेते हुए उन्हें जल्द से जल्द हल करने का वादा किया है। इसके अलावा वाईस चांसलर ने ये भी वादा किया है कि एक कमेटी का गठन किया जाएगा जिसमें छात्र व प्रोफेस्सोर्स होंगे जो छान-बीन करके एक रिपोर्ट सौपेंगे ताकि आगे ऐसी गलती से बचा जा सकें।

 

(टीम मध्यमार्ग)