ख़बरें

मध्यप्रदेश में जातिवाद की नफरत से भरे लोगों ने अनुसूचित जाति के व्यक्ति का अंतिम संस्कार रोका

गुना। मध्यप्रदेश के गुना जिले के बिलोनिया चक गांव से जातिवाद का एक मामला सामने आया है। खबर है कि यहाँ एक व्यक्ति ने एक अनुसूचित जाति के व्यक्ति का अंतिम संस्कार करने से रोक दिया।

यह व्यक्ति यादव समुदाय ये है। और इसने श्मशान वाली जमीन पर 2 साल से कब्जा कर रखा है।

यह जमीन उनकी है, यहां पर अंतिम संस्कार नहीं होगा

दरअसल, बिलोनिया चक गांव में 80 साल के अमरू की लंबी बिमारी के चलते मौत हो गई थी। रविवार 10 सितंबर की सुबह उसके परिजन और रिश्तेदार शव को लेकर जब दाह संस्कार करने श्मशान पहुंचे। इसी बीच यादव समुदाय के कुछ लोग वहां आ गए और बोले की यह जमीन उनकी है। यहां पर अंतिम संस्कार नहीं होगा।

इसके बाद अनुसूचित जाति के लोगों ने इस बात का विरोध किया। विरोध करने पर यादव समुदाय उन्हें पीटने की धमकी देने लगे।

अधिकारियों ने करवाया अंतिम संस्कार

तब अनुसूचित जाति के लोगों ने पुलिस को फोन करके पूरे मामले की सूचना दी। थोड़ी ही देर में कैंट थाने से बल, तहसीलदार, पटवारी, सचिव और अन्य अमला गांव पहुंचे। पीड़ित परिवार की समस्या सुनने के बाद अधिकारियों ने अंतिम संस्कार करवाया।

पढ़ें- दो अनुसूचित जाति प्रधानों को हटाकर शब्बीरपुर में ठाकुर को बनाया प्रधान

वर्षों से जमीन पर हो रहे हैं दाह संस्कार

गांव वालों ने बताया कि गांव की सरकारी जमीन पर वर्षों से दाह संस्कार कर रहे हैं। लेकिन एक जातिवादी गुंडे गनपत यादव ने पिछले दो वर्ष से यहां बाड़ कर दी गई है और यह जमीन खुद की बताकर दाह संस्कार से मना कर रहा है।

पढ़ें- पानी की छीटें पड़ने पर सवर्णों ने किशोरी समेत अनुसूचित जाति के लोगों को पीटा

पहले भी कर चुका है मना

छह महीने पहले भी एक महिला की मौत पर शव जलाने पहुंचे लोगों को भगा दिया था, लकड़ियाँ फेंक दी थीं। लेकिन अबकी बार गांव वालों ने दबंग से डरने की बजाए श्मशान की जमीन के पास ही सड़क पर शव रखकर शांतिपूर्ण तरीके से मुकाबला किया।

गुना के तहसीलदार इकबाल खान ने बताया कि श्मशान के लिए ग्राम पंचायत में प्रक्रिया चल रही है। सरकारी जमीन से दो बीघा जमीन चयनित कर शांतिधाम का प्रस्ताव ग्राम पंचायत से मांगा है।

मामला संवेदनशील था इसलिए उसी जमीन पर दाह संस्कार कराया, जहाँ गाँव वाले यह परंपरा निभाते आए हैं। सरकारी जमीन पर की गई बाड़ भी हटवाएंगे।

ग्राम पंचायत श्मशान में बाउंड्रीवाल, टीनशेड आदि का इंतजाम करेगी। पुलिस को एहतियात के लिए बुलाया गया था।

पढ़ें- IMD की वैज्ञानिक ने अपनी महिला बावर्ची पर जाति छुपाने के लिए कर दिया धोखा-धड़ी का केस

 

(टीम मध्यमार्ग)

 

मध्यमार्ग से जुड़ने के लिए शुक्रिया, हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारी आर्थिक मदद करें